Home / Articles / क्षेत्रीय भाषी लेखकों के लिए नॉएडा में Shabd.in नामक ई-कॉमर्स आधारित प्रकाशन मंच
क्षेत्रीय भाषी लेखकों के लिए नॉएडा में Shabd.in नामक ई-कॉमर्स आधारित प्रकाशन मंच

क्षेत्रीय भाषी लेखकों के लिए नॉएडा में Shabd.in नामक ई-कॉमर्स आधारित प्रकाशन मंच

1. शब्द कैसे दूसरे पब्लिकेशन हाउस से अलग हैं ?

शब्द.इन एक ऑनलाइन प्लैटफ़ार्म है जो पब्लिकेशन की सुविधाएं भी देता है। हम लोग बाकी के पब्लिकेशन्स से इस माने में बिलकुल अलग हैं। यहाँ लेखक केवल अपनी किताबें पब्लिश ही नहीं कराते बल्कि अपने पाठकों से सीधा संबंध स्थापित कर सकते हैं और अपने फ़ालोवर बना सकते हैं। इतना ही नहीं आप अपनी किताबों के अध्यायों को एक एक कर के अलग अलग संग्रहीत कर सकते हैं और एक क्लिक पर उन्हे किताब के रूप में प्रकाशित करा सकते हैं। किताबें पेपरबैक के साथ साथ इबुक फ़ारमैट में भी उपलब्ध रहती हैं। और लेखक उसमें से कुछ अध्यायों को निःशुल्क भी रख सकते हैं। कुल मिलकर शब्द.इन एक पब्लिकेशन और सोशल मीडिया प्लैटफ़ार्म का सम्मिलित रूप है जिसमे दोनों रूपों की प्रमुख उपयोगिताओं का समावेश किया गया है।   इस प्लेटफॉर्म पर लेखक तय करते है कि उसको एक किताब पर कितनी रॉयल्टी चाहिए और उसको किताब किसी भी माध्यम से बिके लेखक को उतनी रॉयल्टी मिलती है । शब्द का लेखक डैशबोर्ड पारदर्शी है जिसमे लेखक कभी भी अपनी किताबो की बिक्री और रॉयल्टी के आंकड़े देख सकता है ।

2. आपने अबतक कितनी फंडिंग ली हैं?

शब्द.इन के पिछले वर्जन में लगभग 1.2 करोड़ की फंडिंग ली गयी थी। परंतु शब्द.इन का वर्तमान स्वरूप पूरी तरीके से बूटस्ट्राप्ड है और रीब्रांडिंग के बाद से अभी तक हमने कोई भी फंडिंग नहीं उठाई है।

3. आप कब से रनिंग बिज़नेस में हैं और अब तक कितना बिज़नेस कर चुके हैं?

शब्द.इन का वर्तमान स्वरूप मात्र 3 से 4 महीने पुराना है और इसमें भी पेपरबैक प्रिंटिग को प्रारम्भ हुये अभी केवल 2 महीने हुये हैं। अभी तक हम लोगों ने 1-2 लाख रुपये का बिज़नस किया है।

4. आपके पब्लिकेशन हाउस में अबतक कितनी बुक पब्लिश हो चुकी हैं?

हमारे प्लैटफ़ार्म पर अभी तक लगभग 700 ईबुक प्रकाशित हो चुकी हैं और 27 किताबें पेपरबैक में उपलब्ध हैं।

5. आपका अबतक का रेवन्यू क्या रहा हैं ?

अभी तक हम लोगों ने पिछले 1-2 महीने में 1-2 लाख रुपये का बिज़नस किया है। और हम लोग इस प्लैटफ़ार्म पर एक काफी तेज़ ग्रोथरेट देख रहे हैं।

6. आप इस और अगले फाइनेंसियल ईयर को कैसे देखते हैं ?

ये दो फाइनेंशियल ईयर हम लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण हैं क्योंकि शब्द.इन को अभी हाल में ही लॉंच किया गया है और आने वाले साल में हम लोग इसे अनेक अन्य भारतीय भाषाओं में उपलब्ध कराने जा रहे हैं और ये बहुत महत्वपूर्ण है की इसे सही तरीके से अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाया जाए ताकि भारतीय साहित्यकारों की अच्छा मंच उपलब्ध हो सके जहां वे निश्चिंत होकर अपनी किताबें प्रकाशित कर सकें और उन किताबों के प्रकाशन से यथोचित पारिश्रमिक कमा सकें।

7. आपके द्वारा पब्लिश की गई बुक्स अबतक कितनी हो चुकी हैं ?

हमारे प्लैटफ़ार्म पर अभी तक लगभग 700 ईबुक प्रकाशित हो चुकी हैं और 27 किताबें पेपरबैक में उपलब्ध हैं।

8. कौन-कौन से भाषा में अबतक अपने बुक पब्लिश की हैं?

शब्द.इन अभी केवल हिन्दी में उपलब्ध  है। प्लैटफ़ार्म का अंग्रेज़ी वर्जन अप्रैल के महीने में लॉंच कर दिया जाएगा। उसके बाद इसी साल में हम लगभग 20 से 30 अन्य भारतीय भाषाओं में भी इस प्लैटफ़ार्म को उपलब्ध करने जा रहे हैं।

9. कौन सी भाषा आपको लगता हैं ज्यादा डिमांड में हैं और क्यों ?

हिन्दी और अंग्रेज़ी की डिमांड अभी सबसे अधिक है लेकिन बंगाली, मराठी और तमिल तथा कई अन्य और भी भारतीय भाषाओं का भी साहित्य बहुत समृद्ध है। हम शब्द.इन को भारत की अनेक भाषाओं में लोकप्रिय होते हुये देख रहे हैं।

10. कौन-कौन बुक आपकी बेस्ट सेल्लिंग हैं, अबतक?

प्लैटफ़ार्म पर अनेक अच्छी किताबें उपलब्ध हैं। इस महीने की बेस्ट सेलिंग किताबों को https://shabd.in/home पर देखा जा सकता है। अभी तक की सबसे लोकप्रिय किताबों में से कुछ ये हैं
1. बिन्दु: एक संघर्ष
2. राम वही जो सिया मन भाए
3. काव्या की कव्यांजली
4. गरीबी में डाक्टरी
5. कर्कोटक का क्रोध
6. अंत ही आरंभ है

11. अबतक आपके साथ कितने ऑथर (लेखक) जुड़े हैं और किन भाषाओं की ज्यादा रुचि और रुझान आ रहे हैं ?

वर्तमान वर्जन में अबतक कुल 5000 लेखक जुड़ चुके हैं और उनमें से 1500 लोग एक्टिवली लिख रहे हैं। अभी shabd.in केवल हिन्दी में उपलब्ध है तो सभी लेखक हिन्दी भाषा के ही हैं। अप्रैल में शब्द.इन का अंग्रेजी वर्जन भी उपलब्ध हो जाएगा और उसके बाद आने वाले महीनों में अन्य भारतीय भाषाएँ उपलब्ध कराई जाएंगी।

Scroll To Top