Home / Entertainment / फिल्म “शकुंतला देवी” की रिलीज से पहले गिनीज वर्ल्ड रेकॉडर्सTM ने स्वर्गीय शकुंलता देवी को “सबसे तेज ह्यूमन कंप्यूटर” होने का सर्टिफिकेट प्रदान किया
फिल्म “शकुंतला देवी” की रिलीज से पहले गिनीज वर्ल्ड रेकॉडर्सTM ने स्वर्गीय शकुंलता देवी को “सबसे तेज ह्यूमन कंप्यूटर” होने का सर्टिफिकेट प्रदान किया

फिल्म “शकुंतला देवी” की रिलीज से पहले गिनीज वर्ल्ड रेकॉडर्सTM ने स्वर्गीय शकुंलता देवी को “सबसे तेज ह्यूमन कंप्यूटर” होने का सर्टिफिकेट प्रदान किया

@shahzadahmed

अमेज़न प्रेजेंट्स शकुंतला देवी भारतीय भाषा में पहली बायोपिक है, जिसका एक्सक्लूसिव ग्लोबल प्रीमियर प्राइम वीडियो पर होगा
सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्‍स प्रोडक्शंस और विक्रम मल्होत्रा द्वारा प्रोड्यूस और अनु मेनन द्वारा निर्देशित शकुंतला देवी में राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेत्री विद्या बालन की मुख्य भूमिका है और उनका साथ दे रहे हैं सान्या मल्होत्रा, अमित साध और जिशु सेनगुप्ता
200 से अधिक देशों और क्षेत्रों के प्राइम मेम्बर्स 31 जुलाई से शकुंतला देवी का ग्लोबल प्रीमियर स्ट्रीम कर सकते हैं

अमेज़न प्राइम नई और एक्सक्लूसिव फिल्मों, टीवी शोज, स्टैण्ड-अप कॉमेडी, अमेज़न ओरिजिनल सीरीज की असीमित स्ट्रीमिंग, अमेज़न प्राइम म्यूजिक के माध्यम से विज्ञापन-रहित संगीत सुनने, भारत में उत्पादों के सबसे बड़े संग्रह की तेज और निशुल्क आपूर्ति, अच्छे सौदों तक जल्दी पहुँच, प्राइम रीडिंग द्वारा अनलिमिटेड रीडिंग और प्राइम गेमिंग द्वारा मोबाइल गेमिंग कंटेन्ट के साथ अतुलनीय महत्व की पेशकश करता है, यह सभी केवल 129 रू. प्रतिमाह में उपलब्ध हैं
गिनीज वर्ल्ड रेकॉडर्स ने स्वर्गीय शकुंतला देवी को सबसे तेज ह्यूमन कंप्यूटर (फास्‍टेस्‍ट ह्यूमन कम्‍प्‍यूटर) के खिताब से सम्मानित किया है। अमेजन प्राइम वीडियो पर मैथ्स की जीनियस शकुंतला देवी की बायोपिक की रिलीज से थोड़े ही दिन पहले इस सर्टिफिकेट का मिलना एक सरप्राइज एक तौर पर सामने आया है, जिसका सभी ने स्वागत किया है। अंकों की सबसे तेज गणना करने का ह्यूमन रेकॉर्ड 28 सेकंड का हैं और यह भारतीय महिला शकुंतला देवी ने बनाया था। उन्होंने 18 जून 1980 को ब्रिटेन के लंदन के इंपीरियल कॉलेज में एकाएक और बिना सोचे समझे चुनी गई 13-13 अंकों की दो संख्याओं को सफलतापूर्वक रेकॉर्ड समय में गुणा कर यह रेकॉर्ड बनाया था। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉडर्स की ओर से दिए गए सर्टिफिकेट को स्वर्गीय शकुंतला देवी की ओर से उनकी बेटी अनुपमा बनर्जी ने हासिल किया।
मैथ्स की जीनियस शकुंतला देवी की असाधारण और खास जिंदगी का जश्न मनाने के लिए अमेजन प्राइम विडियो शकुंतला देवी पर बनी शानदार बायोपिक का ग्लोबल प्रीमियर करने के लिए बिल्कुल तैयार है। इस फिल्म में व्यक्तिगत और व्यावसायिक स्तर पर उनकी विभिन्न उपलब्धियों को उभारा गया है। फिल्म का लेखन और निर्देशन अनु मेनन ने किया है, जबकि सोनी पिक्चर्स नेटवर्क, इंडिया और विक्रम मल्होत्रा ने फिल्म का निर्माण एबंडंशिया एंटरटेनमेंट के अपने बैनर के तले किया है। फिल्म में विद्या बालन शकुंतला देवी की भूमिका में नजर आएंगी। फिल्म में सान्या मल्होत्रा ने शकुंतला देवी की बेटी अनुपमा बनर्जी का रोल निभाया है। इसके साथ ही जिशु सेनगुप्ता और अमित साध फिल्म के अन्‍य महत्‍वपूर्ण किरदारों को निभा रहे हैं। स्वर्गीय शकुंतला देवी की बेटी अनुपमा बनर्जी ने कहा, “अपनी मां की उपलब्धि पर उनके लिए सम्मान हासिल करने का पल मेरे लिए काफी भावुक कर देने वाली खुशी का क्षण है। “सबसे तेज ह्यूमन कंप्यूटर” होने का खिताब एक रोमांचक उपलब्धि है। यह खिताब केवल मेरी मां ही हासिल कर सकती थीं। मैं काफी खुश हैं कि इस बायोपिक को बनाते समय मुझे अपनी मां की जिंदगी, उनके व्यक्तित्व, आदतों और स्वभाव के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देने का मौका मिला। इससे मैंने यह सुनिश्चित किया कि लोग मेरी मां को उसी रूप में जानें, जैसी अपनी जिंदगी में वह थी। वह काफी जिंदादिल, खुशमिजाज और वाकई अमेजिंग और अद्भुत थीं। वह पागलपन की हद तक मैथ्स से प्यार करती थीं। उनमें गणित के सवालों को हल करने का जुनून था। वह हमेशा मैथ्स को एक लेवल आगे ले जाना चाहती थीं। गणित के मुश्किल सवालों को चुटकियों में हल करने की उनकी यही पहचान उन्हें काफी खुश कर देती थी। उन्हें अपनी गणित संबंधी क्षमताओं पर बेहद नाज था, जिसने मैथ्स की कैलकुलेशन के क्षेत्र में सभी को पीछे छोड़ दिया है।“

फिल्म अभिनेत्री विद्या बालन ने बायोपिक में अपने रोल के बारे में बताते हुए कहा, “लंदन में फिल्म की शूटिंग के समय अनुपमा बनर्जी से मेरी अक्सर मुलाकात होती थी। उनके साथ बातचीत में मुझे पता लगा कि स्वर्गीय शकुंतला देवी के पास गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉडर्स की ओर से उनकी उपलब्धि को प्रमाणित करने वाला कोई आधिकारिक सर्टिफिकेट नहीं है। जब शकुंतला देवा का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉडर्स में शामिल किया था, उस समय इसका सर्टिफिकेट दिए जाने का चलन नहीं था। उस समय सर्टिफिकेट नहीं  दिया जाता था। फिल्म के निर्माता विक्रम मल्होत्रा और मेरी यह दिली ख्वाहिश थी कि शकुंतला देवी की उपलब्धि पर उन्हें सर्टिफिकेट दिया जाए। इसलिए हम अमेजन की टीम के साथ गिनीज वर्ल्ड रेकाडर्स की टीम के पास पहुंचे, जिन्होंने हमारी हर तरीके से मदद की। मैं बेहद उत्साहित हूं कि अपनी मां की उपलब्धि पर उनकी बेटी अनुपमा को सर्टिफिकेट मिल गया है, जो हमेशा उन्हें उनकी मां की मैथ्स के क्षेत्र में हासिल की गई उपलब्धि की याद दिलाएगा। यह उस लीजेंड को मेरी ओर से श्रद्धांजलि है!” उन्होंने कहा, “मैं इस दिलचस्प सफर का हिस्सा बनकर काफी खुश हूं। इस फिल्म में काम करके मैं पिछले 100 सालों में जन्म लेने वाली ऐसी महिला के बारे में जान सकी हूं, जिन्होंने अपने जीवन में कई उपलब्धियां हासिल कीं। दूसरों के सामने एक आदर्श मिसाल पेश करने वाले कार्य के लिए उनकी बेहद सराहना की गई। किसी ऐसे व्यक्ति का किरदार निभाने के काबिल बनना, जो जिंदगी में लगातार हमें प्रोत्साहित करता रहता है, यह वास्तव में मेरे लिए काफी सम्मानजनक है!“
गिनीज वर्ल्ड रेकॉर्ड के संपादक क्रेग ग्लेंडे ने कहा, “इतने बरस बीत जाने के बाद भी गिनीज बुक में शकुंतला देवी की हैरतअंगेज उपलब्धि ने अपनी जगह बरकरार रखी है। उनके रेकार्ड को तोड़ने की बात कौन कहे, कोई अभी तक उनके रेकॉर्ड की बराबरी भी नहीं कर पाया है। यह शकुंतला देवी की गजब और असाधारण दिमागी शक्ति और इस  विशेष मानसिक चुनौती की अहमियत का सबूत है। ह्यूमन कंप्यूटर की जिंदगी और करियर को ग्लोबल स्तर पर सेलीब्रेट करना काफी समय से पेंडिंग था। गिनीज वर्ल्ड रेकॉर्ड इस अनोखे शख्स की प्रतिभा और उपलब्धियों को सामने लाने में अपनी भूमिका निभाकर काफी सम्मानित महसूस कर रहा है।“

Dwarkaexpress.com

Tags #guinnessworldrecordaward #shakuntaladevi #fastesthuman #bollywood

Scroll To Top